Moksh Dwaar ?




Moksh Dwaar*?
A poem received via WhatsApp

M G Warrier

*ना Sunday बीतने की चिंता,*

*ना Monday आने का डर*

*ना पैसे कमाने का मोह*

*ना खर्च करणे की ख्वाइश्*

*ना हॉटेल मे खाणे की इच्छा*

*ना घुमने जाणे की खुशी*

*ना सोना-चांदी का मोह*

*ना पैसे का मोह*

*ना नए कपड़े पहनने की एक्साइटमेन्ट*

*ना अच्छे से तयार होने की चिंता*




*क्या हम मोक्ष के द्वार पर पहुंच गए हैं*❓

😱😳

Comments

Popular posts from this blog

NAVAGRAHA STOTRAM

Agnimeele Purohitham : First recording on Gramaphone

Remembering R K Talwar : Vaghul